uttar pradesh ki rajdhani kahan hai
uttar pradesh ki rajdhani kahan hai

हेलो दोस्तों हम उम्मीद करते है आप सभी सेफ होंगे स्वस्थ होंगे।  आज हम आपके लिए लेकर आये है एक महत्वपूर्ण आर्टिकल जिसमे हम आपको बताएँगे की ” Uttar pradesh ki rajdhani kahan hai “।  सिर्फ एहि नहीं दोस्तों हम आपको बतायेगे उत्तरप्रदेश की जनसँख्या एवं वह के मशहूर पर्यटन स्थल। 

तो इस आर्टिकल को अंत तक ज़रूर पढ़े। 

उत्तरप्रदेश की कैपिटल

उत्तरप्रदेश की राजधानी है ” लखनऊ “।  यह भारत का बेस्ट शहर भी माना गया है।  यह शहर जितना बेस्ट है उतना ही ज़्यादा इसकी आबादी भी है।  प्रेजेंट समय में इसकी आबादी लग भाग 21 – 22 करोड़ है।  यह पर मल्टीप्ल कल्चर को फॉलो करने वाले लोग भरी संख्या में रहते है इसलिए यह बहु संस्कृति का शहर भी खा जाता है। 

उत्तरप्रदेश  की जनसँख्या एंड एरिया

क्षेत्रफल और जनसंख्या की दृष्टि से उत्तर प्रदेश में लखनऊ 631 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है और समुद्र तल से इसकी ऊँचाई 130 मीटर है। वर्ष 2011 में हुई जनसंख्या जनगणना के अनुसार इस शहर की जनसंख्या 2817105 के करीब दर्ज की गई थी और पूरे महानगर की जनसंख्या एक साथ 2901,474 दर्ज की गई थी। वर्ष 2003 में इसकी जनसंख्या 2541101 थी और साक्षरता दर 68.63 प्रतिशत थी।

भारत सरकार की 2001 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, लखनऊ जिले में अल्पसंख्यकों की संख्या अधिक है। उत्तर प्रदेश के लोग जनसंख्या का बहुमत बनाते हैं। धर्म की दृष्टि से 77 प्रतिशत जनसंख्या हिंदू है, जबकि 20 प्रतिशत जनसंख्या मुस्लिम है। सिख, जैन, ईसाई और बौद्ध बाकी आबादी बनाते हैं।

इस शहर में साक्षरता दर 82.5 प्रतिशत है, जिसमें महिला और पुरुष आबादी की साक्षरता दर क्रमशः 78 प्रतिशत और 89 प्रतिशत है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी में पर्यटक आकर्षण

लखनऊ और उसके आसपास कई पर्यटक आकर्षण हैं, जिनमें मनोरंजन स्थल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, उद्यान और ऐतिहासिक स्थल शामिल हैं।

लखनऊ का प्रतिष्ठित बड़ा इमामबाड़ा सांस्कृतिक और ऐतिहासिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। आसफ-उद-दौला ने 1784 में अकाल राहत पहल के हिस्से के रूप में इस गुंबददार हॉल जैसा इमामबाड़ा बनवाया था। यह 50 मीटर लंबा और 15 मीटर ऊंचा है। इस इमामबाड़े में एक आसफी मस्जिद भी है।

छोटा इमामबाड़ा का असली नाम हुसैनाबाद इमामबाड़ा है। इसका निर्माण मुहम्मद अली शाह ने 1837 में करवाया था।

सआदत अली का मकबरा, जो अवध वास्तुकला का एक सुंदर उदाहरण है, यहां का एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण भी है। इस मकबरे के बगल में ही बेगम हजरत महल पार्क है। मकबरे की गुंबददार और भव्य छत इसकी खासियत है। इसके अलावा, खुर्शीद जैदी का मकबरा बनाया जा रहा है; दोनों कब्रें जुड़वां प्रतीत होती हैं।

बुद्ध पार्क, रूमी दरवाजा, लेमन पार्क, मरीन ड्राइव, इंदिरा गांधी तारामंडल और छतर मंजिल देखने लायक अन्य आकर्षण हैं। लखनऊ-हरदोई मार्ग पर स्थित मलिहाबाद गांव विश्व प्रसिद्ध दशहरी आम का घर है। नैमिषारण्य तीर्थ, जो लखनऊ से 90 किलोमीटर की दूरी पर है और इसका अनूठा धार्मिक महत्व है, वहीं स्थित है। इलाहाबाद, कानपुर, वाराणसी और हरदोई जैसे शहर लखनऊ के करीब हैं और उनके अपने पर्यटन आकर्षण हैं